• flash-1.jpg
  • flash-5.jpg

यायावर

संगमनकार में नया कॉलम-  यायावर

 

संगमनकार में एक और नया कॉलम शुरु किया जा रहा है- यायावर । इसमें हर बार एक नई रचना पोस्ट की जाएगी । यह साहित्य की यायावरी है। यूं ही कभी कविता, कभी कहानी, रम्य रचना या कोई गीत, गज़ल पर कुछ वक्त का मुकाम होगा। इसमें काल कोई बाधा या बंधन नहीं है, कभी अपने पूर्वजों की श्रेष्ठ रचनाओं के संसार की ओर निकल पड़ेंगे तो अचानक आज के दौर में चहल कदमी करने लौट आयेंगे, एक फक्कड़ यायावर की तरह । उम्मीद करते हैं आपको साहित्य की ये यायावरी पसंद आएगी ।

इस यायावरी में शामिल होने आप अपनी रचनाएं हमें पर मेल कर सकते हैं ।

       इस यायावरी का यह मुकाम कहानी का है । इस बार पढ़ते हैं श्री अमिताभ मिश्र की कहानी फिलिप्स का वो रेडियो । आप कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया ज़रूर दें ।

 

जीवेश प्रभाकर

संपादक, संगमनकार

क्लिक करें-- यायावर- 2